PCOD/PCOS – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) क्या होते हैं?

PCOD/PCOS – पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) क्या होते हैं?

एक अध्ययन के मुताबिक, भारत में हर पांच में से एक महिला पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पकोस) से प्रभावित होती है।

आजकल की भागदौड़ भरी, और तनावपूर्ण लाइफस्टाइल के चलते हम अक्सर अपनी सेहत का सही तरह से ध्यान नहीं रख पाते। जिसके कारण कई तरह की समस्याएं हो जाती हैं|जिसमे लड़कियों और महिलाओं के बीच पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) एक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या है, जिसके लिए सावधानीपूर्वक मूल्यांकन, समय पर हस्तक्षेप और उचित उपचार की आवश्यकता होती है।

क्या है PCOD/PCOS?

“पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम” या “पॉली सिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर” एक ऐसी मेडिकल कंडिशन है जो आमतौर पर रिप्रोडक्टिव उम्र की महिलाओं में हॉर्मोनल असंतुलन (Hormonal imbalance) के कारण पाई जाती है। इसमें महिला के शरीर में male हॉरमोन – “androgen”- का लेवल बढ़ जाता है व ओवरीज़ पर एक से ज़्यादा सिस्ट हो जाते हैं। यह आश्चर्य की बात है की इस बीमारी के होने का आजतक कोई कारण पता नहीं चला है और यह अभी भी शोध का विषय है, परंतु चिकित्सकों का मानना है कि यह समस्या महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन, मोटापा या तनाव के कारण उत्पन्न होती हैं। साथ ही यह जैनेटिकली भी होती है।

Image result for PCOD/PCOS
Polycystic Ovarian Disease Symptoms

इसके Symptoms क्या होते हैं?

कई बार इसके symptoms बाहरी तौर पर नज़र आ जाते हैं और कई बार पता नहीं चलते हैं। लेकिन ये कुछ ऐसे संकेत हैं, जो इस बीमारी की तरफ इशारा करते हैं – वज़न बढ़ना, अनियमित पीरियड्स, शरीर व चेहरे पर एक्सट्रा हेयर ग्रोथ होना, acne, मुहांसों व तैलीय त्वचा की समस्या अचानक से होना, बालों का झड़ना, pelvic pain होना, ओवरी पर कई सिस्ट होना। इसके अलावा हाइ ब्लड प्रेशर, diabetes व दूसरे हॉर्मोन्स का असंतुलन भी इसके बढ़ने पर हो सकते हैं। ये कंडिशन ज़्यादा गंभीर होने पर महिला को Pregnant होने में भी मुश्किल होती है।

Also Read: आयरन क्यों जरुरी है महिलाओं के लिए?

PCOS / PCOD होने पर क्या करें?

  • अगर आप इन Symptoms की शिकार हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलें। पैदल घूमना, जॉगिंग, योग, ज़ुम्बा डांस, एरोबिक्स,साइक्लिंग, स्विमिंग किसी भी तरह का शारीरिक व्यायाम रोज़ करें। व्यायाम के साथ आप मैडिटेशन भी कर सकती ही जिससे तनाव काम होगा।
  • जंक फ़ूड,अधिक मीठा,फैट युक्त भोजन,अत्यधिक तैलीय पदार्थ,सॉफ्ट ड्रिंक्स, का सेवन बंद कर अच्छा पौष्टिक आहार लेना ज़रूरी है।
  • स्विमिंग किसी भी तरह का शारीरिक व्यायाम रोज़ करें। व्यायाम के साथ आप मैडिटेशन भी कर सकती ही जिससे तनाव काम होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat